Honorable Governor inaugurates two days workshop on National Sowa Rigpa organized by Leh, Ladakh and Namgyal Institute of Tibetology, Sikkim.

1.gif

Public Relations Section                                                                                      Phone: 03592-202410

                                                                                                                                Fax: 03592- 202742

RAJ BHAVAN

                                              GANGTOK, SIKKIM                                                             

    

                                                                                                                                                  SKM/GOV/PR/2022/295

प्रेस विज्ञप्ति

 

राजभवन ; दिनांक 21.05.2022

 

     आयुष मंत्रालय अंतर्गत राष्ट्रीय सोवा रिग्पा संस्थान , लेह लद्दाख  एवं नामग्याल तिब्बतीय संस्थान ( NIT ) के संयुक्त तत्वाधान में पूर्वोत्तर राज्यों के सोवा रिग्पा विशेषज्ञों के लिए दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्य गोष्ठी  का आयोजन किया गया सिक्किम के माननीय राज्यपाल श्री गंगा प्रसाद मुख्य अतिथि तथा मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तामांग लगायत केंद्रीय आयुष एवं पोत, जहाजरानी तथा जलमार्ग मंत्री श्री सर्वानंद सोनवाल की विशेष उपस्तिथि में 21 मई को कार्य गोष्ठी का उद्घाटन मनन केंद्र , गंगटोक में किया गया जिसमे आयुष तथा महिला एवं शिशु विकास राज्यमंत्री डॉ . मंजूपाडा महेन्द्रभाई कालूभाई  तथा सिक्किम के स्वास्थ्य मंत्री डॉ एम के शर्मा भी विशेष रूप से उपस्थित रहे ।इसी के साथ आज  सोवा रिग्पा कॉलेज भवन  का उद्घाटन  भी आभासी  रूप से किया गया

     यह सिक्किम के इतिहास में पहली बार है कि  माननीय राज्यपाल ,मुख्यमंत्रीकेंद्रीय आयुष मंत्री तथा राज्य मंत्री , स्वास्थ्य मंत्री, के साथ साथ मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारीगण की उपस्थिति में इस तरह का  कार्यक्रम का आयोजन किया गया सोवा - रिग्पा एक पारंपरिक  चिकित्सा प्रणाली है ।यह  कार्यक्रम पूर्वोत्तर राज्यों में सोवा  रिग्पा चिकित्सा विधि के संरक्षण एवं प्रवर्तन की प्रक्रिया में आगे बढ़ने का मंच प्रदान करेगा ।साथ ही विशेषज्ञों , पेशेवर , शोधार्थी तथा विद्यार्थी गण को इस क्षेत्र  में कई अवसर प्राप्त होंगे

सभा को सम्बोधित करते हुए केंद्रीय आयुष एवं पोत , जहाजरानी तथा जलमार्ग मंत्री श्री सर्वानंद सोनवाल ने परम आदरणीय प्रधानमंत्री जी के  प्रति आभार व्यक्त करते हुए  कहा  कि उनके योग्यता एवं नेतृत्व के  कारण ही प्राचीन चिकित्सा पद्धति तेज़ गति से विश्व में अपना सत्ता स्थापित कर रहा है   सिक्किम प्राकृतिक सौंदर्य एवं  औषधि पौधों से अति समृद्ध राज्य है सोवा रिग्पा चिकित्सा प्रणाली की सिक्किम में बहुत अधिक संभावनाएं हैं उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि इस प्रणाली का  विकास अधिक से अधिक हो ताकि  बाहर से भी लोग चिकित्सा  के लिए  सकें

 

                                                   

            इसी कड़ी में , माननीय राज्यपाल महोदय  ने अपने सम्बोधन में सर्वप्रथम यशस्वी  प्रधानमंत्री  श्री नरेंद्र मोदी जी को उनकी दूरदर्शिता एवं  अथक प्रयास  द्वारा पारंपरिक चिकित्सा के लिए वैश्विक केंद्र स्थापित करने हेतु  धन्यवाद ज्ञापन किया उन्होंने कहा कि पारंपरिक चिकित्सा  पद्धति ज्ञान का स्रोत मुख्यतः भारत ही है ।आज आयुर्वेद की ओर संसार का  ध्यान जा  रहा है सिक्किम में  औषधीय पौधों की विशाल विविधता है यहाँ उन जड़ी - बूटियों की भरमार है जिसका प्रयोग सभी पारंपरिक  चिकित्सा पद्धति में मुख्य रूप से किया जाता  है ।उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि  पारंपरिक  चिकित्सा पद्धति के क्षेत्र में  सिक्किम भारत का अनुपम प्रदेश बनेगा और इस क्षेत्र में अन्य प्रदेशों का भी मार्गदर्शन करेगा ।इस दिशा में अधिकारियों से मिलजुल कर कार्य करने का आह्वान किया  

     माननीय मुख्यमंत्री जी ने भी अपने सम्बोधन में  सोवा रिग्पा चिकित्सा पद्धति को प्राचीन काल से चली रही पद्धति बताते हुए कहा कि सिक्किम में 80 प्रतिशत वनस्पति में औषधीय गुण पाए जाते हैं तथा राज्य  औषधीय पौधों से समृद्ध अद्वितीय पारिस्थितिकी तंत्र का  प्रतिनिधित्व  करता है ।कार्यक्रम में आयुष मंत्रालय के विशेष सचिव श्री प्रमोद कुमार पाठक , सचिव एन आई टी श्री पेमा वांग्याल रिन्ज़िंग तथा अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे