Press release on Hindi Utsav 2022 organised by Dainik Jagran.

 

1.gif

Public Relations Section                                                                                        Phone: 03592-202410

                                                                                                                                     Fax: 03592- 202742

 

RAJ BHAVAN

GANGTOK, SIKKIM

 

प्रेस विज्ञप्ति


राजभवन:11-11-2022
 
गुरुवार 10.11.2022 को दैनिक जागरण  (उत्तर बंगाल और सिक्किम) के तत्वावधान में तथा विद्या भारती  फाउंडेशन मधुवन ग्रुप के सहयोग से  दैनिक जागरण हिन्दी उत्सव  2022 के पहले संस्करण समारोह का आयोजन किया गया  जिसमें सिक्किम के माननीय राज्यपाल श्री गंगा प्रसाद  मुख्य अतिथि के रूप में सम्मिलित रहे। इस मौके पर  राज्यपाल महोदय के हाथों  से उत्तर बंगाल सिक्किम के हिंदी भाषा तथा  शिक्षा के क्षेत्र में अलख जलाये हुए 36  शिक्षकों  और 05 सहायकों को सम्मानित किया गया कार्यक्रम का आयोजन होटल कोर्टयार्ड बाई मेरियट ,सिलीगुड़ी में किया गया था |

राज्यपाल महोदय ने दैनिक जागरण के कार्य को सराहनीय बताते हुए कहा कि दैनिक जागरण (उत्तर बंगाल सिक्किम) के युवा एवं ऊर्जावान महाप्रबंधक जय हलदर एवं वरिष्ठ समाचार संपादक गोपाल ओझा समेत पूरे दैनिक जागरण परिवार को बधाई| यह कार्यक्रम निश्चय ही अहिंदी क्षेत्र में हिंदी भाषा, साहित्य शिक्षा के प्रचार-प्रसार, विकास हेतु  और अधिक कार्य करने को प्रेरित करेगा।  उन्होंने  ख़ुशी व्यक्त की  कि हिंदी के उत्थान का यह स्वर्णिम काल चल रहा है|शिक्षकों को सम्बोधित करते हुए कहा कि शिक्षक समाज के शिल्पकार हैं। गैर हिंदी प्रदेशों में हिंदी के  शिक्षक अति महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। हिंदी  जनसंपर्क की भाषा है। इस दिशा में केंद्र राज्य सरकारें भी हिंदी के प्रोत्साहन के लिए काम कर रही हैं और नई शिक्षा नीति 2020 में भी इस बात पर जोर दिया  गया है।

भाषा किसी भी संस्कृति की जीवन रेखा है एवं मानव सभ्यता की उन्नति की मूलाधार है।  यह कहना है सिक्किम के राज्यपाल काउन्होंने सभी से आह्वान किया कि जितना हमें अपनी भाषा और परंपरा को बचाए रखना जरूरी है, वहीं दूसरों की भाषा और संस्कृति का सम्मान करना भी उतना ही जरूरी है। भाषा संस्कृति को मजबूत करती है, वहीं संस्कृति समाज को मजबूत बनाती है। अपनी भाषा की पहचान बनाये रखने के लिए  हमें सदा जागरूक और प्रयत्नशील  रहना होगा।" उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि  जो जाति अपनी भाषा को सुरक्षित नहीं रख पाती हैं वह जाति धीरे- धीरे अपनी पहचान खोने लगती है। उल्लेखनीय है कि सिक्किम से डॉ. प्रदीप त्रिपाठी ,संपादक कंचनजंघा ,सहायक प्रोफेसर, हिंदी विभाग, सिक्किम विश्वविद्यालय को सम्मानित किया गया|समारोह में अन्य गणमान्य की भी उपस्थिति रही|